Pages

Wednesday, September 08, 2010





कल रात का था आलम कुछ ऐसा !
नैना बरसे , बादल भी बरसा !!
बात जो निकली जुबां से एक पल में !
असर दिखा उसका इक अरसा !

नहीं कटा हमसे ना उनसे !
रात का वो प्रहर चुइंगम सा !!
वही कहें , बोलें, और सुनाये !
हम सुने , जैसे कोई बुत था !!

कहतें है, सोच समझ कर बोलो !
इन्सान भी देखो, देखो लम्हा!!
जब भी सोच कर चाहा कहना !
हम कह नहीं पाए अपनी मंशा !!

सोच समझ कर तो गैरों को बोलें !
फिर फर्क रहा क्या
कौन पराया , कौन है अपना ?

. . . . . . . . . . .  . . .  नवनीत

16 comments:

  1. वाह...बड़ी मार्मिक कविता लिखी है...और चित्र...वाह वा...कमाल का लगाया है...कमाल का...सब कुछ ठीक तो है ?

    नीरज

    ReplyDelete
  2. ab sab tthik hai, likhne ke baad sab tthik ho jata hai !

    ReplyDelete
  3. ब्‍लागजगत पर आपका स्‍वागत है ।

    किसी भी तरह की तकनीकिक जानकारी के लिये अंतरजाल ब्‍लाग के स्‍वामी अंकुर जी,
    हिन्‍दी टेक ब्‍लाग के मालिक नवीन जी और ई गुरू राजीव जी से संपर्क करें ।

    ब्‍लाग जगत पर संस्‍कृत की कक्ष्‍या चल रही है ।

    आप भी सादर आमंत्रित हैं,
    संस्‍कृतम्-भारतस्‍य जीवनम् पर आकर हमारा मार्गदर्शन करें व अपने
    सुझाव दें, और अगर हमारा प्रयास पसंद आये तो हमारे फालोअर बनकर संस्‍कृत के
    प्रसार में अपना योगदान दें ।
    यदि आप संस्‍कृत में लिख सकते हैं तो आपको इस ब्‍लाग पर लेखन के लिये आमन्त्रित किया जा रहा है ।

    हमें ईमेल से संपर्क करें pandey.aaanand@gmail.com पर अपना नाम व पूरा परिचय)

    धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  4. सोच समझ कर तो गैरों को बोलें !
    फिर फर्क रहा क्या
    कौन पराया , कौन है अपना ?

    bahut hi saccha , sahi aur sateek !!

    bahut badhiya !!

    ReplyDelete
  5. बड़ी मार्मिक कविता लिखी है|

    ReplyDelete
  6. ब्लाग जगत की दुनिया में आपका स्वागत है। आप बहुत ही अच्छा लिख रहे है। इसी तरह लिखते रहिए और अपने ब्लॉग को आसमान की उचाईयों तक पहुंचाईये मेरी यही शुभकामनाएं है आपके साथ
    ‘‘ आदत यही बनानी है ज्यादा से ज्यादा(ब्लागों) लोगों तक ट्प्पिणीया अपनी पहुचानी है।’’
    हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    मालीगांव
    साया
    लक्ष्य

    हमारे नये एगरीकेटर में आप अपने ब्लाग् को नीचे के लिंको द्वारा जोड़ सकते है।
    अपने ब्लाग् पर लोगों लगाये यहां से
    अपने ब्लाग् को जोड़े यहां से


    कृपया अपने ब्लॉग से वर्ड वैरिफ़िकेशन को हटा देवे इससे लोगों को टिप्पणी देने में दिक्कत आती है।

    ReplyDelete
  7. Thanks to all of you , it's really very nice to have such comments and guidance. it will help me in a good way ! Thanks ! to Anand Ji, Patali ji, Veena Ji, & surendra singh ji !

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर और बहुत खूब
    विशेष:
    "जब भी सोच कर चाहा कहना !
    हम कह नहीं पाए अपनी मंशा !!"

    ReplyDelete
  9. बहुत खूब........शानदार अभिव्यक्ति लिए है ये कविता ...........भावों को सुन्दर ढंग से पिरोया है आपने ........शुभकामनाये |

    कभी फुर्सत में हमारे ब्लॉग पर भी आयिए-
    http://jazbaattheemotions.blogspot.com/
    http://mirzagalibatribute.blogspot.com/
    http://khaleelzibran.blogspot.com/
    http://qalamkasipahi.blogspot.com/

    एक गुज़ारिश है ...... अगर आपको कोई ब्लॉग पसंद आया हो तो कृपया उसे फॉलो करके उत्साह बढ़ाये

    ReplyDelete
  10. बधाई सुन्दर शब्दों के लिये

    ReplyDelete
  11. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    ReplyDelete
  12. इस सुंदर से चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  13. शानदार अभिव्यक्ति.....बधाई
    यहाँ भी पधारे
    विरक्ति पथ

    ReplyDelete