Pages

Monday, April 22, 2013

Bachpan Ki Yaadein . . !


आज बहुत समय बाद जब ये पिक्चर फेस बुक में देखा तो इतनी खुश हुई की बता नहीं सकती . क्यूंकि ये  तस्वीर मुझे मेरे बचपन के दिनों में घुमाने ले गयी . तब मै जैतसर फार्म कॉलोनी में रहती थी , और बारिश के दिनों में रैत के टीलों में न जाने कहाँ से ये सुर्ख लाल , नरम  बिलकुल  वेलवेट जैसी ये चींटियाँ कहाँ से आ जाती थी। .आज जैसे ही मैंने ये तस्वीर देखी तो मुझे वही दिन, वही बारिश के बाद की मिटटी की गीली  गीली खुशबू याद आ गयी !

No comments:

Post a Comment