Pages

Saturday, June 18, 2011

आज काफी दिनों के बाद , मन किया कुछ share  करने का ! ये बात है मेरे शौक की. मैंने कविता लिखना शुरू किया - दिल में आई बात या शब्दों को बयां करने के लिए. वो भी एक शौक ही कह लीजिये. दूसरा है - सजाना यानि Decoration - ख़ास कर Fruits  या खाने की चीजों पर  जिसे हम "presentation " कह सकते है ! आने वाले दिनों में मै कुछ तस्वीरों के साथ अपने इस शौक को बयां करुँगी . so till then bye . . . . !

. . . . . . Wait is over .  .  . ! ये रहा मेरा शौक . . . . !






No comments:

Post a Comment