Pages

Monday, August 02, 2010

Tera Andaz !

ए ईश्वर तेरे बन्दों पे रहम फरमा,
तेरे होते हुए, कर जातें है तुझे नजरअंदाज,
कौन है जो बता सके उनका ये करम उनको,
जब तू समझाए, तो लगे अलग तेरा अंदाज़ !!


. . . . . . . . नवनीत गोस्वामी

2 comments:

  1. वा जी वा...सच्ची बात कही है आपने...
    नीरज

    ReplyDelete